Thursday, November 5, 2009

ऐ क्या तू बोलती....


इन से मिलो..
कुछ भी तुम
कह ना पाओगे..
वर्तमान को तुमने सजाया है...
भविष्य अब ऐसा ही पाओगे...


5 टिप्पणियाँ:

Suman said...

nice

pukhraaj said...

wakayi ye bachche kamaaaaal ke hain ....hamesha yaad rahenge ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

प्यारे बच्चों को बहुत सुभकामनाएँ।
मजा आ गया।

वाणी गीत said...

शायद आप यह कहना चाह रहे है की हम जो बच्चों को सिखा रहे है..उससे बेहतर भविष्य की आशा करना बेकार है ...रियलिटी शोज में बच्चों से इस प्रकार के गाने और कई बार इतने फूहड़ नृत्य देखने को मिल जाते हैं जो उनकी अभिभावकों की महत्वाकांक्षा के आगे बच्चों की स्वाभाविक मासूमियत पर प्रहार करते हैं ...!!

ज्योति सिंह said...

aaj jaisa banayenge kal waisa payenge bahut khoob ,bahut achchha laga aakar

Post a Comment