Monday, December 14, 2009

मुस्कराहट.....

एक पैकेट में ७ बन(ब्रेड) हैं.

मेरी पत्नी रोज आधा खाती है और मैं एक पूरा.

पहेली है कि ५ वें दिन कौन कितना खायेगा? (समीर जी की पोस्ट से साभार)

यदि पत्नी मेरी हुई तो....

पहले दिन ही पैकेट खत्म हो जाएगा।

स्त्री/ पुरूष विमर्श धरा रह जाएगा।

********************


एक पत्नी बोली -
मैं अपने पति को चार रोटियां खिलाती हूँ
लेकिन खुद एक ही खाती हूँ।
दूसरी ने कहा-
अच्छा है ,पति- धर्म ऐसे ही निभाया जाता है।
चार की एक और एक को चार जब बनाया जाता है।

************************************


एक पत्नी ने दूसरी से कहा-
मेरे पति कभी किसी को
आँख उठा कर भी नही देखते....
दूसरी ने कहा-
बहन, मैं यह बात जानती हूँ और मानती हूँ ....
तुम्हारे पति से किसी औरत का कद बड़ा हो ही नही सकता।

*******************************************

7 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...
This comment has been removed by the author.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

वाह जी वाह!
बहुत दिनों मे पोस्ट लगाई है!
सबी चुटकुले मजेदार है जी!

राज भाटिय़ा said...

बहुत मजेदार जी

ज्योति सिंह said...

bahut mazedaar laga

संजय भास्कर said...

LAJWAAB

Kulwant Happy said...

मजा आ गया। तुम्हारे पति से किसी का कद बड़ा हो ही नहीं सकता।

avinaash said...

ingit kis aur hai

Post a Comment