Thursday, June 17, 2010

सत्य को कैसे जानें......




                                                                                                      (चित्र गुगुल सभार)



अलबेला जी पोस्ट " सत्य बहुमत की परवाह नहीं करता..... " पढ़ते हुए कुछ प्रश्न मन मे उठे हैं.....कृपया इसे अन्यथा ना लें।यदि किसी की भावना आहत हो तो क्षमा चाहूँगा।बस! इन्हे पढ़ते हुए कुछ प्रश्न मन मे उठे उन्हें जानना चाहता हूँ। कृपया निवारण करें।

जो हमें ठीक लगे
वैसा कहना और वैसा ही करना,
इसका नाम सत्य है
___स्वामी विवेकानन्द

--- यदि यही सत्य है तो चोर जो अपने परिवार के भरण पोषण के लिए चोरी करता है क्या वह भी सत्य है?

अगर तुम मेरे हाथों पर
चाँद और सूरज भी ला कर रख दो,
तब भी मैं
सत्य के मार्ग से विचलित नहीं होऊंगा

___हजरत मुहम्मद
-- कोई कैसे साबित कर सकता है कि वह सत्य मार्ग पर है?



सत्य एक ही है दूसरा नहीं,
सत्य के लिए बुद्धिमान लोग विवाद नहीं करते
___महात्मा बुद्ध
--- लेकिन वह एक सत्य कौन-सा है ?

सत्य बहुमत की परवाह नहीं करता,
एक युग का बहुमत
दूसरे युग का आश्चर्य और शर्म भी हो सकता है
___अज्ञात महापुरुष
-- क्या सत्य का भी कोई मापदंड होता है ?


 

4 टिप्पणियाँ:

आशीष मिश्रा said...

अति सुंदर विचार

AlbelaKhatri.com said...

bahut achhi baat kahi aapne baali ji !

aapke prashna jitne saral aur spasht hain uttar bhi utne hi seedhe aur sateek diye jayenge......

bas zara saa ........intezaar..

निर्मला कपिला said...

विचारनीय पोस्ट।

ramakant chaudhary said...

Shri Bali jee
aapne saty ke baare main badhyan jankari blog main di hai. mera manna hai ki saty ko aasani se parkha ja sakta hai.baharhal pahle saty ko apna kar to dekho apne aap sat dikhaee dega.
Dhyanvad
Ramakant Chaudhary

Post a Comment